Pharma Science
<?php echo Pharma Science;; ?>
  • Pharma Science

    Home

  • Pharma Science

    About us

  • Pharma Science

    Our Mission

  • Pharma Science

    Blog

  • Pharma Science

    Testimonial

  • Pharma Science

    Images Testimonial

  • Pharma Science

    Chats Testimonial

  • Pharma Science

    Video Testimonial

  • Pharma Science

    Our Research

  • Pharma Science

    Our Products

  • Pharma Science

    Testimonial

  • Pharma Science

    Franchise

  • Pharma Science

    Contact us

Intrinsic purification: Before you lost organs like liver, kidney and pancreas

Pharma Science
Views : 64434 Published on : 26-02-2020

Yes, today we are going to talk about body detoxification, which is also called detoxification process, means the process of expelling the toxic substances present in our body out of the body, and this process is most effective in aloe vera; Regular intake of pure and high-quality aloe vera juice can remove toxic compounds (toxic substances) stored in our body.


How do these toxic compounds reach our body; And their side effects: -

Toxic compounds continue to enter our bodies daily through our daily diet (pesticide sprayed crops, vegetables, and food products prepared and protected by chemical processes, etc.) and the external environment (polluted air), which results in the body's internal A chest full of organs reaches them, affecting their performance and these vital parts of the human body before age Smooth stop working, has become impaired person becomes Grass is often times I


Can the entry of toxicity into the body be somehow prevented: -

In view of the present condition, it would be completely wrong to say that we can somehow stop the toxicity from entering the body because at the present time, not only pastries and fertilizers are being used in large quantities to grow grains and vegetables. Also, the chemical substances through which vegetables and fruits are prematurely matured or cooked are not only harmful Ruck is dyed with synthetic dyes, they are toxic in large quantities, as well as this trickery of adulteration has badly engulfed almost all the food items used in the daily life of the common man, from milk to milk. Even tax issues have not been left out, in the context of which we continue to hear and watch news on newspapers and news channels, but unfortunately Vartama To which they could not be stopped completely and in the future due to the rampant profiteering in the market has also seen a possibility as fully closing the business this sophistication; Due to which it is an imagined quantity to somehow prevent these harmful toxins from entering our body.


Therefore, it is prudent that we regularly exclude toxic compounds going into our bodies daily by the process of detoxification.


Remedy and Prevention: -

In the context of the remedy, we have already told that the only way to prevent toxicity is detoxification, for which a variety of methods and many products are available in the market; In which we consider the consumption of Aloe Vera juice to be the best because it not only detoxes the body but also energizes the body as well, it also has unmatched medicinal properties, which helps our body from more than 150 diseases. is saved; Provided that the aloe vera juice that we are consuming is of high quality that is capable of completing the process of detoxification and you can easily find out whether it is used by you with a small experiment at home. You may or may not know aloe vera juice; For this experiment, you will need betadine liquid and water. You can learn the method of the experiment through the video and you can also test your own Aloe vera juice in the same way.





जी हाँ आज हम बात करने जा रहे है बॉडी डेटोक्सिफिकेशन के बारे में जिसे विषहरण प्रकिया भी कहा जाता है मतलब हमारे शरीर में व्याप्त विषैले तत्वों को शरीर से बाहर निकालने की प्रक्रिया, और इस प्रक्रिया में सबसे ज्यादा कारगर होता है एलोवेरा; शुद्ध और उच्च गुणवत्ता वाले एलोवेरा जूस के नियमित सेवन से हमारे शरीर में जमा टॉक्सिक कम्पाउंड्स (विषैले तत्व) को बाहर निकला जा सकता है I


कैसे पहुंचते है ये टॉक्सिक कम्पाउंड्स हमारे शरीर में; और इनके दुष्प्रभाव :-

टॉक्सिक कम्पाउंड्स, हमारे दैनिक आहार (कीटनाशक के छिड़काव वाली फसलों, सब्जियों व रासायनिक प्रकिया से तैयार और संरक्षित भोज्य पदार्थ आदि) और बाह्य वातावरण(प्रदूषित वायु) के माध्यम से दिन प्रतिदिन हमारे शरीर में जाते रहते है, जिनके दुष्परिणाम स्वरूप शरीर के आंतरिक अंगो को भरी छाती पहुँचती है जिससे उनकी कार्यक्षमता प्रभावित होती है और उम्र से पहले ही मनुष्य के शरीर के ये महत्पूर्ण अंग सुचारु रूप से कार्य करना बंद कर, ख़राब हो जाते है और व्यक्ति अमूमन काल का ग्रास बन जाता है I


क्या टॉक्सिसिटी के शरीर में प्रवेश को किसी तरह रोका जा सकता है:-

वर्तमान हालत को देखते हुए यह कहना बिलकुल गलत होंगा की हम किसी भी तरह से टॉक्सिसिटी को शरीर में जाने से रोक सकते है क्योकि वर्तमान समय में न सिर्फ अनाजों व सब्जियों को उगाने के लिए पेस्ट्रीसाइट्स और फर्टीलिज़ेर्स का भारी मात्रा में उपयोग किया जा रहा है साथ ही जिन रासायनिक द्रव्यों के माध्यम से सब्जियों व फलो को समय से पूर्व परिपक्व किया जाता है या पकाया जाता है इतना ही नहीं जिन हानिकारक सिंथेटिक रंगो से इन्हे रंगा जाता है ये सभी भारी मात्रा में टॉक्सिक होती है साथ ही मिलावट के इस गोरखधंदे ने आम इंसान के दैनिक जीवन में उपयोग की जाने वाली लगभग सभी खाद्य सामग्रियों को बुरी तरह अपनी चपेट में लिया हुए है जहाँ दूध से ले कर मसलो तक को भी नहीं छोड़ा गया है जिनके सन्दर्भ में आये दिन अखबारों व न्यूज़ चैनलों पर हमें खबरे सुनने व देखने मिलते ही रहती है लेकिन दुर्भाग्यवश वर्तमान तक इन्हे पूर्णतः नहीं रोका जा सका है और बाजार में व्याप्त इस मुनाफाखोरी के चलते भविष्य में भी इस मिलावट के व्यवसाय के पूर्णतः बंद होने जैसे कोई आसार नजर आते है; जिसके चलते किसी भी तरह से इन हानिकारक टॉक्सिन्स को हमारे शरीर में जाने से रोक पाना एक कल्पना मात्रा है I

अतः समझदारी इसी में है की हम रोजाना अपने शरीर में जाने वाले टॉक्सिक कंपाउंड्स को डेटोक्सिफिकेशन की प्रक्रिया द्वारा नियमित रूप से बहार करते रहे I 


उपाय व बचाव:-

उपाय के सन्दर्भ में हम पहले ही बता चुके है की टॉक्सिसिटी से बचाव का एक मात्र तरीका सिर्फ डेटोक्सिफिकेशन ही है, जिसके लिए विविध तरह की विधिया व कई तरह के प्रोडक्ट्स बाजार में उपलब्ध है; जिनमे हम एलोव वेरा जूस के सेवन को सर्वोत्तम इसीलिए मानते है क्योकि ये न सिर्फ शरीर को डेटॉक्स करता है अपितु शरीर को स्फूर्ति भी प्रदान करता है साथ ही इसमें बेमिसाल औषधीय गुण भी पाए जाते है जिससे ये हमारे शरीर को लगभग १५० से ज्यादा बीमारियों से बचता है; बशर्त है जिस एलोववेरा जूस का सेवन हम कर रहे हो वो उच्च गुणवत्ता वाला हो जो डेटोक्सिफिकेशन की प्रक्रिया को पुरा करने के योग्य हो और इसका पता आप अपने घर पर ही एक छोटे से प्रयोग द्वारा आसानी से कर सकते है की क्या आपके द्वारा उपयोग किया जाने वाला एलोव वेरा जूस आपके लिए उपयोगी है भी या नहीं; इस प्रयोग के लिए आपको बीटाडीन लिक्विड और पानी की आवस्यकता होंगी प्रयोग की विधि, वीडियो के माध्यम से जान सकते है साथ ही आप स्वयं भी इसी तरह अपने एलोव-वेरा जूस का परिक्षण कर सकते है I 


For More Information: 

Related Blog

Pharma Science
Pharma Science

Genuine Products

Pharma Science

Secure Transaction

Pharma Science

Track Your Orders

Pharma Science

Fast Delivery